शीघ्रपतन: अपनी पार्टनर को संतुष्ट करने के लिए बिस्तर में कितनी देर टिके रहना होता है?

हमारे देश और संभवतः पूरे विश्व में शीघ्रपतन एक ऐसा पुरुष गुप्त रोग है जो व्यापक है लेकिन इस पर ज़्यादा चर्चा नहीं की जाती। एक शोध ने तो यह पाया है कि एशियन पुरुषों का पतन कॉकेशियन पुरुषों की तुलना में जल्दी हो जाता है वहीं अफ्रीकन पुरुषों का पतन कॉकेशियन पुरुषों से भी बाद में होता है। यह दर्शाता है कि इंसान की कुछ नस्लों में सेक्स गुण दूसरों की तुलना में थोड़े अलग होते हैं। पुरुष स्खलन बहुत ही जटिल प्रक्रिया होती है। यह एक रीफ्लैक्स प्रतिक्रिया है जिसमें शरीर के संवेदन ग्राही (सेंसरी रिसेप्टर, अफेरेंट पाथवे, सेरिब्रल सेंसरी क्षेत्र, सेरिब्रल मोटर सेंटर, स्पाइनल मोटर सेंटर और नर्वस सिस्टम के कई पाथवे एक साथ काम करते हैं)। सामान्य स्खलन में तीन बुनियादी प्रक्रियाएँ होती हैं – उत्सर्ग, स्खलन और चरम सुख। ये रहे पुरुष स्खलन के बारे में कुछ तथ्य आपको जरूर पता होने चाहिए।

वहीं शीघ्रपतन ऐसा स्खलन है जो पुरुष के तैयार होने से पहले ही घटित हो जाता है और इसलिए यह एक ऐसी प्रक्रिया है जिस पर पुरुष का नियंत्रण नहीं होता। दूसरे शब्दों में कहें तो जब पुरुष का स्खलन होने के बाद भी उसे संतुष्टि नहीं होती तो इससे यह संकेत मिलता है कि उसे शीघ्रपतन की शिकायत है। लेकिन एक ऐसा भी मानक है जिससे यह इंगित हो सकता है कि यह शीघ्रपतन के रोग के कारण हो रहा है या फिर कभी-कभी हो जाने वाली गड़बड़ी है – इस मानक को इंट्रावैजाइनल ईजैक्यूलेटोरी लेटेंसी टाइम (आईईएलटी) कहते हैं। अर्थात योनि के अंदर रोक सकने का समय। ये रहे कुछ टिप्स जिनसे आप बिस्तर में लंबे टिके रह सकेंगे।

इंट्रावैजाइनल ईजैक्यूलेटोरी लेटेंसी टाइम से यह कैसे निर्धारित होता है कि पुरुष को शीघ्रपतन की शिकायत है?

यदि आप सेक्स में हर बार स्खलन के बाद असंतुष्ट महसूस करते हैं तो हो सकता है आपको शीघ्रपतन की बीमारी हो गई हो। लेकिन शीघ्रपतन सुनिश्चित करने के लिए आईईएलटी मापना जरूरी होता है। यह योनि में लिंग के प्रवेश से लेकर स्खलन के बीच का समय होता है। हर पुरुष का ईजैक्यूलेटोरी लेटेंसी टाइम अलग-अलग हो सकता है लेकिन फिर भी शोधकर्ताओं ने ऐसे मानक निर्धारित किए हैं जो यह दर्शा सकते हैं कि पुरुष को शीघ्रपतन की समस्या मानी जाए या नहीं। उदाहरण के लिए, यदि संभोग की औसत अवधि चार से सात मिनट हो तो योनि में प्रवेश करने के चार मिनट के पहले स्खलन को शीघ्रपतन करार दिया जाता है। अलग-अलग समय बिन्दुओं पर किए गए कई शोधों ने यह निष्कर्ष निकाला है कि जो पुरुष अंदर जाने के दो मिनट के अंदर स्खलित हो जाते हैं उन्हें सुनिश्चित रूप से शीघ्रपतन का रोगी माना जा सकता है। जिन लोगों का एक मिनट के अंदर स्खलित हो जाता है उनका शीघ्रपतन रोग गंभीर माना जाता है।

BUY NOW

हमारे पाठकों के लिए फास्ट शिपिंग ऑफर:

  • पहला-दूसरा हफ्ता:
  • आपका खड़ापन लंबे समय तक चलेगा और उसकी सख्ती भी बढ़ जाएगी लिंग की संवेदना दो गुना बढ़ जाएगी पहले बदलाव लिंग की लंबाई 1.5 सेमी बढ़ जाने के साथ दिखेंगे1
  • दूसरा-तीसरा हफ़्ता:
  • आपका लिंग बड़ा दिखने लगेगा और उसका शेप भी सटीक हो जाएगा संभोग की अवधि 70% बढ़ जाएगी!2
  • चौथा हफ्ता और इसके बाद:
  • आपका लिंग 4 सेमी लंबा हो जाएगा! सेक्स की गुणवत्ता काफी अच्छी हो जाएगी और संभोग में चरम सुख जल्दी मिलेगा तथा 5-7 मिनट तक चलेगा!

Chettur Chadda

Urologist, Blogger.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Post comment