हर रोज़ यौन संबंध। फायदे और नुकसान

यौन संबंध सुखद होता है, इसे सभी जानते हैं। पर यह सबको नहीं मालूम कि नियमित अंतरंग संबंधों का इंसान के शरीर पर क्या असर होता है। इस लेख में हम आपको बताएंगे कि दैनिक यौन संबंधों से क्या होगा, अक्सर होने वाले यौन संबंधों का इंसान के शरीर पर क्या असर होगा और साथ ही दैनिक यौन संबंधों के फायदे और नुकसानों से आपको परिचित कराएँगे।

प्रतिदिन होने वाले यौन संबंधों के फायदे

बेशक पूरे जीवन भर हर रोज़ यौन संबंध बना पाना मुमकिन नहीं। उदाहरण के लिए, मासिक धर्म के दौरान व गर्भावस्था की कुछ अवधि में यौन संबंध बनाने की सलाह नहीं होती है। पुरुषों के लिए यह काफी आसान है, हालांकि उनके लिए भी बहुत से दिन ऐसे होते हैं जब यौन संबंधों से इंकार ही बेहतर होता है।

21 दिनों तक चलने वाले प्रयोग के हिस्से के रूप में हर रोज़ यौन संबंधों को आजमाया जा सकता है। खुद को और अपनी साथिन को तैयार कर लीजिए जिससे तीन हफ्तों के दौरान हर रोज़ सेक्स संबंध बनाने में किसी तरह का व्यवधान न आए। दैनिक यौन संबंधों के फायदे के बारे में कुछ तथ्य।

  • सेक्स से मायोकार्डियल इंफार्क्शन (रोधगलन) का खतरा कम हो जाता है।
  • सेक्स शरीर में कंजेशन (रक्तसंकुलता) की रोकथाम करता है।
  • हफ्ते में 2 बार से अधिक अंतरंग निकटता से इम्युनिटी (प्रतिरक्षा प्रणाली) बेहतर होती है और श्लेष्म झिल्ली की सुरक्षा क्षमता बढ़ती है।
  • हफ्ते में एक बार भी यौन संबंध बनाने से वज़न कम करने में मदद मिलती है।
  • सेक्स दिमागी गतिविधि को बेहतर करता है, कार्यक्षमता को बढ़ाता है।
  • नियमित यौन संबंध मेटाबोलिक प्रक्रियाओं को बेहतर करते हैं।
  • नियमित यौन संबंध जोड़ी के बीच संबंधों को बेहतर करते हैं।
  • अक्सर होने वाले सेक्स संबंध से नींद की स्थिति में सुधार आता है।

अक्सर होने वाले सेक्स संबंधों के नुकसान

हर तरह की गतिविधि के फायदे के साथ-साथ नुकसान भी होते हैं। यही यौन संबंधों पर भी लागू होता है। हर रोज़ होने वाले यौन संबंधों के नकारात्मक परिणाम भी हो सकते हैं।

साथी के साथ मतभेद

स्वभाव में अंतर होने पर यह एक आम बात है, जब एक साथी दूसरे की तुलना में अधिक बार सेक्स चाहे। यौन संबंध बनाने की अनिच्छा अक्सर महिलाओं को होती है, हालांकि सब कुछ व्यक्तिगत होता है। अक्सर महिलाएँ शिकायत करती हैं कि उनके पति यौन संबंध नहीं चाहते हैं या नहीं बना सकते हैं। हर हाल में अगर केवल एक साथी हर रोज़ यौन संबंध चाहता है, तो यह झगड़े का कारण बन सकता है।

इससे कैसे बचा जाए

अगर इस तरह की स्थिति पहले कभी नहीं हुई और आपकी ज़रूरतें एक साथ पूरी होती थीं, तो यह समस्या का संकेत है। साथी को दोषी ठहराए बिना और सेक्स के लिए मजबूर किए बिना उससे बात करना ज़रूरी है। अधिकतर मामलों में समस्या को हल किया जा सकता है। अगर यौन संबंधों को लेकर शुरू से ही आपके बीच मतभेद थे और आप फिर भी इस व्यक्ति के साथ रहना चाहते हैं, तो अक्सर होने वाले यौन संबंधों के फायदों के बारे में स्पष्ट रूप से बताना बेहतर होगा।

शारीरिक थकावट

दैनिक यौन संबंध कैवल सक्रिय और मज़बूत लोगों के ही बस में हैं। निष्क्रिय जीवन शैली में मोटापे और निम्न स्तर की यौन सहनशक्ति के कारण यौन संबंध एक गंभीर समस्या बन जाते हैं। खास तौर पर पुरुषों के लिए। अगर पुरुष खेलकूद और प्रतियोगिताओं में भाग लेते हैं, तो उन्हें अपने प्रदर्शन के 2-3 दिन पहले से यौन संबंधों से बचना चाहिए।

इससे कैसे बचा जाए

अगर अपने स्वास्थ्य का ख्याल रखा जाए तो हर रोज़ यौन संबंधों के लिए ताकत जुटाना संभव है। खास तौर पर टेस्टेस्टेरोन के स्तर का ख्याल रखना ज़रूरी है। संतुलित भोजन और पूरक आहार ज़रूरी हैं, जिनसे मर्दाना हार्मोन का उत्पादन बेहतर हो।

अंतरंग प्रक्रियाएँ उबाऊ हो जाती हैं

बेशक यौन संबंध आनंददायक होने चाहिए, न कि उबाऊ कर्तव्य। हर रोज़ किए जाने पर कुछ भी उबाऊ हो सकता है। पर! केवल अगर आप हर रोज़ हर चीज़ बिल्कुल एक ही तरह से करते हैं।

इससे कैसे बचा जाए

खुद को बिस्तर में आम संभोग तक सीमित मत रखिए। विभिन्न स्थानों, मुद्राओं और प्यार के तरीकों के साथ प्रयोग कीजिए। सेक्स-खिलौनों, स्नेहक, 69 की मुद्रा, पारस्परिक हस्तमैथुन और विभिन्न भूमिकाओं को आजमाइए। अंतरंग निकटता में किसी तरह की सीमाएँ नहीं होतीं, अगर सब कुछ आपसी मर्ज़ी से हो रहा है।

अनचाही गर्भावस्था

अभी हाल में ही डॉक्टरों ने, अक्सर होने वाले स्खलन से पुरुषों की प्रजनन क्षमता में गिरावट के बारे में बात की थी। हालांकि, हाल के अध्ययन इससे विपरीत बात के गवाह हैं: हर रोज़ होने वाले यौन संबंधों से गर्भ धारण की संभावना कम नहीं होती है। वास्तव में, हर रोज़ स्खलन होने से शुक्राणुओं की सांद्रता कम हो जाती है, पर अक्सर होने वाले यौन संबंधों से पुरुष युग्मक (गैमेट) की गति पर लाभकारी प्रभाव पड़ता है। नतीजतन, अक्सर होने वाले यौन संबंधों से अनियोजित गर्भ धारण का खतरा होता है।

कैसे बचा जाए

सुरक्षित रहने के उपाय कीजिए। विभिन्न गर्भनिरोधक साधनों की अब कोई कमी नहीं है। सभी के अपने फायदे और नुकसान हैं, पर एक अच्छा विकल्प चुनना मुश्किल नहीं।

श्रोणि के क्षेत्र में रक्त का संचार रोध (स्टैसिस)

अगर महिला उत्तेजित होती है पर कामोन्माद तक नहीं पहुँच पाती तो ऐसा होता है। उत्तेजित होने पर रक्त जननांगों तक आ जाता है, और यौन निर्वहन के बिना सामान्य प्रवाह तुरंत बहाल नहीं होता। महिला साथिन के लिए यह बहुत हानिकारक है।

कैसे बचा जाए

अपनी साथिन को कामोन्माद तक पहुँचाना सीखिए। किसी भी कामोन्माद तक। योनि का (वैजाइनल), भग शिश्न (क्लिटोरल) का, स्किवर्ट (धार) के साथ, यह आपकी कुशलता और आपकी साथिन की विशेषताओं पर निर्भर करता है। आम तौर पर यह समस्या अच्छी संभोग पूर्व क्रीड़ा और यौन संभोग की अवधि बढ़ाने से हल हो जाती है। या पुरुष के लिंग का आकार बढ़ाने से भी।

अक्सर होने वाले यौन संबंधों से शरीर को आदत पड़ जाती है

किसी व्यक्ति का स्वभाव और यौन संबंधों के लिए उसकी ज़रूरत पूरी तरह से व्यक्तिगत होती हैं। हालांकि शरीर बाहरी परिस्थितियों को अपनाकर बदलाव ला सकता है। उदाहरण के लिए, यदि किसी व्यक्ति के पास नियमित भागीदार नहीं है, तो घनिष्ठ अंतरंगता की आवश्यकता कम हो जाती है। बेशक, अगर यौन उत्तेजना लाने वाले कोई बाहरी उत्तेजक नहीं है। अगर सेक्स हर दिन खुशी लाता है, तो शरीर को इसकी आदत हो जाती है और वह अधिक की मांग करने लगता है।

दैनिक यौन संबंधों के लिए सलाह

गर्भनिरोध। यौन संक्रमित बीमारियों की रोकथाम। साथी की परवाह। वैसे इन नियमों का पालन हमेशा और हर लिंग के लिए होना चाहिए।

याद रखिए आपको अपने लिए कुछ अप्रिय नहीं करना है, भले ही आपके साथी को वह कितना भी पसंद क्यों न हो। बेशक, आपके लिए भी यही ज़रूरी है। अगर आपका यौन साथी किसी तरह के यौन अभ्यास के खिलाफ है, तो उसकी भावनाओं और इच्छाओं का ख्याल रखना ज़रूरी है।

कई अध्ययन नियमित अंतरंगता के बड़े लाभों के बारे में बताते हैं। एक आजमाए हुए नियमित साथी के साथ यौन संबंध खुशी के हार्मोन, सेरोटोनिन और एंडोर्फिन का उत्पादन बढ़ाता है। बेशक, हम उन यौन संबंधों के बारे में बात कर रहे हैं, जो दोनों भागीदारों को खुशी देता है। यदि आपको अंतरंग मामले में कोई समस्या है, तो आपको तुरंत उनसे छुटकारा पाना चाहिए। समय पूर्व स्खलन, लिंग खड़ा होने में अक्षमता और कामेच्छा में कमी जैसी परेशानियों को जल्द से जल्द दूर करना चाहिए ताकि आप यौन संभोग के सभी तरह के सुखों से वंचित न हों।

DR. RAJESH CHOWBEY

Admin, Urologist.