छोटू लंड? इस समस्या में आप कुछ यूँ कर सकते हैं

आज के समय में औसत लंड से छोटा लंड होना पुरुषों की असुरक्षा के सबसे बड़े कारणों में से एक है. मीडिया ने हमारे दिमाग में पत्थर की लकीर खीच दी है कि लंड के आकार का सीधे मर्दानगी से बास्ता है.

पोर्नोग्राफी ने हमारे दिमाग में यह भर दिया है कि जिसका लंड चौदह इंच या उससे अधिक का नहीं है तो आपका सिक्का खोटा है. कितने लोगों को यह एहसास नहीं होता है कि भले ही आप खुद में कमी महसूस करते हैं, फ़िर भी आप औसत परिणाम देने वाले हो सकते हैं.

सर्वेक्षणों से पता चला है कि लंड की राष्ट्रीय स्तर पर औसत लम्बाई लगभग ५.६” (१४.२ सेमी) और मोटाई ४.८” (१२.१९. सेमी) होती है. ध्यान दें कि यह केवल औसत आकार है.

यदि आप इन संख्याओं के अन्दर आते हैं, तो इस बात पर परेशान होने का कोई भी कारण नहीं होता है कि आप किसी महिला को खुश करने में असमर्थ होंगे. इससे पहले कि आप किसी निष्कर्ष पर आएं, आपको कुछ चीज़ों पर विचार करना चाहिए:

  • १. अपने लंड को सही ढंग से मापें
  • २. अपने वास्तविक आकार को स्वीकार करें
  • ३. लंड को चूत के अंदर बड़ा महसूस कराने वाले सर्वोत्तम व्यायामों के बारे में जानें
  • ४. मुँह से और गांड से मज़ा देने में प्रखरता हासिल करें
  • ५. लंड बढ़ाने वाली सिद्ध विधियों पर ध्यान केंद्रित करें

ध्यान दें: ३ से ६ महीनों में लंड के आकार को स्थायी रूप से बढ़ाने वाली वैज्ञानिक रूप से सिद्ध विधियां मौज़ूद हैं. इन्हें नीचे # ५ में बताया गया है.

लंड को मापने का सही तरीका

लंड को सही तरीके से मापने के लिए, आपको कुछ चीज़ों की आवश्यकता होगी. एक पटरी, एक पेन या पेंसिल, और एक कागज का टुकड़ा. वास्तव में अपने लंड को मापना कोई ख़ास उत्तेज़क नहीं है, लेकिन अगर आप अपनी सटीक माप पाना चाहते हैं तो आप ढीले लंड से काम नहीं चला सकते हैं.

अपनी पसंदीदा पोर्न साइट पर किसी वीडियो को चलाओ, या फिर कुछ देर के लिए अपने हाथ को काम पर लगा दो, जिससे आपका पूरा कड़ापन खुल के बाहर आ जाये!

लम्बाई की माप

एक बार जब कड़ापन आ जाये तब पटरी को अपने लंड की शुरुआत पर रखें. सबसे सटीक माप के लिए पटरी को अपनी प्यूबिक हड्डी में मजबूती से दबाएं.

अब पटरी की बची हुई जगह पर कागज़ रखें, और इसे स्वाभाविक रूप से अपने लंड की नोक पर घुमाएं. जहां पर यह समाप्त हो जाये वहां पर एक निशान लगा दें.

अब आप पेपर पर लगे निशान की मदद से लंड की शुरुआत से लम्बाई को मापने के लिए पटरी का उपयोग कर सकते हैं. यह लंड की लंबाई को मापने का सबसे सटीक तरीका है.

मोटाई मापना

मोटाई को नापना भी बहुत ही आसान है. आपको पटरी और एक धागे का टुकड़ा चाहिए होगा. उसके बाद अपने लंड का सबसे मोटा हिस्सा देखें, और इसके चारों ओर धागे को लपेटें. पहचान के लिए अपनी उंगली से धागे को अपने लंड की मोटाई के हिसाब से पकड़ लें.

अपनी अंगुली से धागे को पकडे रखें और उसे टेबल पर सीधा रखें. अपनी मोटाई को निर्धारित करने के लिए धागे की शुरुआत से उस निशान तक पटरी से माप लें.

तो अब आपको अपने लंड का भूगोल सही से पता है और यह भी पता है कि आप कहाँ-कहाँ पर टिकते हैं. सौभाग्य सेयदि आपका बहुत छोटा है तो अपनी स्थिति में सुधार लाने के लिए आप कई विधियां आजमा सकते हैं.

जुगाड़# १ – अपने शरीर और अपनी स्थिति को स्वीकार करना सीखें

यदि आपने सही ढंग से अपने लंड के आकार को माप लिया है और अभी भी ये औसत से थोड़ा नीचे है, तो इसमें परेशान होने की कोई बात नहीं है. याद रखें कि औसत आकार केवल एक औसत ही है. विश्व की ५०% आबादी इस औसत आकार से नीचे ही है.

हालांकि अधिकांश पुरुष इस बारे में बात करना पसंद नहीं करते हैं, याद रखें कि आपकी तरह ही ये ५०% लोग भी उन्ही हीन भावनाओं और असुरक्षाओं का अनुभव कर रहे हैं. छोटा लंड होने से आपकी मर्दानगी में कमी नहीं आती है, न ही इसका यह मतलब है कि आप किसी महिला को खुश करने में असमर्थ होंगे.

ऐसी बहुत सी चीजें हैं जिनसे आप अपने छोटू जनाब से भी करिश्मा करवा सकते हैं.

# २. प्राकृतिक लंड वृद्धि के तरीकों को आज़माएँ

यदि आपको अभी भी लगता है कि आपको छोटू नहीं चाहिए, तो कुछ ऐसी चीजें हैं जिन्हें आप कर सकते हैं, जो समय के साथ लंड को बढ़ा करने में आपकी मदद करेंगी. आम तौर पर ऑनलाइन आप जिन गोलियों का विज्ञापन देखते हैं वे काम नहीं करती हैं, ऐसे कुछ अभ्यास हैं जिनकी मदद से लंड के आकार में क्रमिक वृद्धि देखी गयी है.

१. खीचें

एक हाथ से अपने ढीले लंड के सिर को पकड़ लें, और दूसरे हाथ से इसकी शुरुआत को पकड़ लें. ५ से १० सेकंड्स के लिए धीरे-धीरे इसे विपरीत दिशाओं में खींचें.

जबक आप थोड़ा दबाव महसूस करने लगें, तो उस समय सावधानी बरतना न भूलें! इसमें आपको कोई असुविधा नहीं महसूस होनी चाहिए. प्रति दिन लगभग ५ मिनट के लिए इसे करें.

२. केगल

हर कोई जानता है कि किसी महिला के स्वास्थ्य के लिए केगल व्यायाम कितने महत्वपूर्ण होते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि इस अभ्यास से आप अपने कड़ेपन पर अधिक नियंत्रण रख पायेंगे?

आपको सबसे पहले तो यह सीखना है कि पीसी मांसपेशियां क्या हैं.

पेशाब करते समय बीच में ही धार को रोकने की कोशिश करें. जिन मांसपेशियों में आप तनाव महसूस करेंगे वे ही पीसी मांसपेशियां हैं. एक बार जब आप उन्हें सिकोड़ना सीख जाते हैं, तो प्रति दिन २० से ३० बार सिकोड़ने का प्रयास करें.

एक बार जब आप इससे सहज महसूस लगें तो, आप पीसी की मांसपेशियों की ताकत में सुधार जारी रखने के लिए व्यायामों की संख्या को बढ़ा सकते हैं.

३. वैकल्पिक खिंचाव दिनचर्या

यदि आप खिचाव से पहले से ही परिचित हैं, तो आप अपने खिंचाव में थोड़ा से परिवर्तन करना चाहेंगे. इस बार, एक हाथ से धीरे-धीरे अपने लंड की नोक को दबाएँ.

इसे स्वाभाविक रूप से पकड़ें; यह दर्द रहित होना चाहिए!

अपने अंगूठे को अपने लंड की शुरुआत पर रखें, और धीरे-धीरे इसे ऊपर की तरफ़ खींचते हुए लायें. इस स्थिति को लगभग १५ सेकंड तक बरक़रार रखें, फिर छोड़ दें. ३० सेकंड का ब्रेक लेते हुए ५ से ६ मिनट तक इस प्रक्रिया को करें.

ध्यान दें: आपको तरह – तरह के अभ्यास करने की कोशिश करनी चाहिए. यहां प्रत्येक कसरत के लिए आपको विस्तृत निर्देश पढ़ने चाहिए.

# ३. सर्जरी के माध्यम से लंड के आकार में वृद्धि करें (यह अनुशंसित उपाय नहीं है)

आज के समय में सर्जरी जैसा विकल्प उपलब्ध हैं लकिन इसे केवल बहुत ही गए गुज़रे मामलों में इस्तेमाल किया जाना चाहिए. ये प्रक्रियाएं बेहद महंगी होती हैं, जिनमे अक्सर ६ से ७ लाख रूपए तक खर्च हो जाते हैं.

रिकवरी के दौरान, आपका लंड खड़ा नहीं होगा. कई मामलों में, रिकवरी के बाद लंड न खड़े होने की समस्या बनी रहती है. इससे यौन सम्बन्धों से प्राप्त होने वाले आनंद से आप वंचित हो सकते हैं.

कई लोगों ने तंत्रिका तंत्र में आयी क्षति की भी रिपोर्ट की है जिसके परिणामस्वरूप उन्हें अपने लंड के आभास में भी कमी आयी है. सर्जरी को अंतिम उपाय के रूप में प्रयोग में लाया जा सकता है, सर्जरी की अनुशंसा हम केवल उन ही मामलों में करते हैं जहां लंड इतना छोटा है कि यौन संबंध बनाना ही संभव नहीं हो पा रहा है.

याद रखें कि शरीर सभी आकारों और आकृतियों के होते हैं. यौन संतुष्टि प्राप्त करने की चाहत में आपके लंड का आकार केवल एक छोटा सा कारक है. अपने शरीर को रातोंरात बदलने की कोशिश करने के बजाय, इस गाइड में बताये गए सरल उपायों को आज़माने के बाद आप अपने यौन अनुभवों की गुणवत्ता में काफी सुधार ला सकते हैं.

DR. RAJESH CHOWBEY

Admin, Urologist.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Post comment